नाट्यकला में तीन वर्षीय पूर्णकालिक डिप्‍लोमा

नाट्यकला में तीन वर्षीय पूर्णकालिक डिप्‍लोमा पाठ्यक्रम –

 राष्‍ट्रीय नाट्य विद्यालय ऐसे प्रतियोगी जो रंगमंच को व्‍यवसाय के रूप में चुनना चाहते हैं, को तीन वर्षीय पूर्णकालिक डिप्‍लोमा पाठ्यक्रम प्रदान करता है।

 पाठ्यक्रम का प्रमुख उद्देश्‍य छात्रों को रंगकर्म अभ्‍यास के लिए तैयार करना है

 इसके लिए व्‍यावहारिक कौशल की विविधता को विकसित करना आवश्‍यक हैं और साथ ही ज्ञान के संग्रह को संचित करना भी। जबकि अध्‍यययन के सभी क्षेत्रों को अलग-अलग मूल्‍यांकित किया जाता है और प्रत्‍येक में उच्‍च मानक के कार्य की मांग हैं, पाठ्यक्रम का सबसे महत्‍वपूर्ण उद्देश्‍य है ग्रुप की सामूहिक संरचना के अंदर ही सृजनात्‍मक कल्‍पना और इसकी अभिव्‍यक्ति की अमूर्त संकल्‍पना का विकास।

 पाठ्यक्रम

 विद्यालय में प्रशिक्षण एक सम्‍यक, व्‍यापक और सावधानीपूर्वक नियोजित तीन वर्षीय पाठ्यक्रम पर आधारित है जिसमें सिद्धांत से लेकर अभ्‍यास तक रंगमंच के सभी पहलुओं को शामिल किया गया है और जिसका परिणाम मूल्‍यांकन के लिए व्‍यापक जनसमूह के समक्ष प्रस्‍तुत किया जाता है। पाठ्यक्रम में रंगकर्म से जुड़ी उन सभी महान विभूतियों की पद्धतियों को शामिल किया गया है जिन्‍होंने समसामयिक रंगमंच के सभी रूपों और अभिव्‍यक्तियों को एक स्‍वरूप प्रदान किया है।

 इस पाठ्यक्रम में भारत एवं पश्चिम की शास्‍त्रीय नाट्य परंपराओं, भारत और विदेशों में आधुनिक रंगमंच प्रवृत्तियां, भारतीय पारंपरिक और लोक रंगमंच, भारतीय रंगमंच परंपराओं में विशेषज्ञतापरक व्‍यापक प्रशिक्षण शामिल है।

 प्रथम वर्ष

 अभिनय से परिचय 

रंग-तकनीक और अभिकल्‍पना से परिचय 

रंगमंच इतिहास, साहित्‍य और सौन्‍दर्यशास्‍त्र 

 प्रथम वर्ष दो सत्रों में विभाजित है। प्रथम सत्र  (जुलाई-दिसंबर) में अभिनय, रंग तकनीक और अभिकल्‍पना के मूल तत्‍वों के अलावा रंगमंच इतिहास, साहित्‍य और सौंदर्यशास्‍त्र का अध्‍ययन किया जाता है। दूसरे सत्र में इन्‍हीं विषयों का विस्‍तृत अध्‍ययन जारी रहता है।

 द्वितीय वर्ष

अभिनय या रंगमंच तकनीक व अभिकल्‍पना में से एक क्षेत्र में विशेषज्ञता

रंगमंच इतिहास, साहित्‍य और सौन्‍दर्यशास्‍त्र का अध्‍ययन

द्वितीय वर्ष भी दो सत्रों में विभाजित है – तीसरा व चौथा सत्र। तीसरे सत्र में छात्र विशेषज्ञता हेतु अभिनय या रंगमंच तकनीक और अभिकल्‍पना में से एक क्षेत्र चुनते हैं। चौथे सत्र में रंगमंच इतिहास, साहित्‍य और सौंदर्यशास्‍त्र, अभिनय (विशेषज्ञता) और रंग तकनीक एवं अभिकल्‍पना (विशेषज्ञता) पर प्रमुख रूप से ध्‍यान दिया जाता है। 

तृतीय वर्ष

 

द्वितीय वर्ष में चुना गया विशेषज्ञता संबंधी अध्‍ययन जारी

तीसरे वर्ष के पाठ्यक्रम का उद्देश्‍य छात्रों को अभिनय या रंगमंच तकनीक एवं परिकल्‍पना में उन्‍नत प्रशिक्षण प्रदान करना है।

प्रोस्‍पैक्‍टस एवं आवेदन फार्म

 

प्रवेश की प्रक्रिया निम्‍नवत है :-

 

आवेदन पत्र और विवरणिका डाक से मंगाए जा सकते हैं तथा यह रानावि की वेबसाइट www.nsd.gov.in पर ऑनलाइन उपलब्‍ध हैं।

जो अभ्‍यर्थी आवेदन पत्र और प्रौस्‍पैक्‍टस डाक से चाहते हैं वह कृपया आवेदन के साथ रु. 225/- (डाक खर्च रु. 75/- शामिल कर) का डिमांड ड्राफ्ट निदेशक, राष्‍ट्रीय नाट्य विद्यालय, नई दिल्‍ली के पक्ष में संलग्‍न करें।

जो अभ्‍यर्थी आवेदन पत्र और प्रौस्‍पैक्‍टस रानावि की वेबसाइट के डाउनलोड करते हैं वह आवेदन पत्र के साथ रु. 150/- का डिमांड ड्राफ्ट निदेशक, राष्‍ट्रीय नाट्य विद्यालय, नई दिल्‍ली के पक्ष में संलग्‍न करें।

डिमांड ड्राफ्ट ‘केवल आदाता के खाते में देय’ के रूप में रेखांकित होना चाहिए।

आवेदन पत्र के साथ सभी प्रमाण-पत्रों की प्रतियां और हाल में खिंचवाई गई पासपोर्ट आकार की चार फोटो संलग्‍न करें।

 अभ्‍यर्थियों को साक्षात्‍कार के समय प्रमाण पत्रों की मूल प्रतियां प्रस्‍तुत करने की आवश्‍यकता पड़ सकती है।

 पूरी तरह से भरा गया आवेदन पत्र संबंधित प्रमाण-पत्रों के साथ निम्‍न पते पर भिजवाएं

शैक्षिक अनुभाग

राष्‍ट्रीय नाट्य विद्यालय, बहावलपुर हाउस, भगवानदास रोड, नई दिल्‍ली-110001 

रा.ना.वि. थियेटर गैलरी

रा.ना.वि. अद्यतन समाचार

रा.ना.वि.स्थान

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय
बहावलपुर हाउस, भगवानदास रोड, नई दिल्ली - 110 001
Tel - 011-23389402